इन सितारों ने देखी अपने बच्चो की दर्दनाक मौत, कोई बीमारी तो किसी की एक्सीडेंट में गई जान!

0
73

दोस्तों फिल्म जगत की इस चमचमाती दुनिया में सितारों को काफी कुछ फेस करना पड़ता है। एक्टर्स की निजी जिंदगी के बारे में तो आप अक्सर पढ़ते ही रहते हैं। लेकिन इन्हीं एक्टर्स की जिंदगी के कुछ ऐसे अनछुए पहलू भी हैं जो बस इनके दिल में छिपे हुए हैं। आज आपको कुछ ऐसे कलाकारों के बारे में बता रहे  हैं जिन्होंने अपनी आंखों के सामने अपने बच्चों को मौत के मुंह में जाते हुए देखा लेकिन वे उन्हें बचा न सके। आइए जानते है इन सितारों के बारे में!

कबीर बेदी

अपने ज़माने के जाने माने फिल्म अभिनेता कबीर बेदी की जिंदगी में एक ऐसा लम्हा आया कि वे बुरी तरह टूट गए। उनके 26 साल के बेटे सिद्धार्थ ने खुदकुशी कर ली थी। कबीर को पढ़ाई के दौरान पता चला कि उनका बेटा डिप्रेशन में है। डिप्रेशन बढ़ता गया और आखिरकार ये सिजोफ्रेनिया जैसी गंभीर बीमारी में बदल गया। उन्होंने बेटे का इलाज करवाया लेकिन इस दौरान दी जाने वाली दवाएं उसे उदासी की ओर ले गईं। और फिर एक दिन सिद्धार्थ ने अपनी जिंदगी खत्म कर ली।

जगजीत सिंह

मशहूर गजल गायक जगजीत सिंह अब हमारे बीच नहीं हैं। उनकी आवाज में लोगों ने हमेशा छिपे दर्द को महसूस किया। जगजीत सिंह के इकलौते बेटे विवेक सिंह की साल 1990 में एक कार दुर्घटना में मौत हो गई थी। बेटे की मौत से उन्हें बड़ा सदमा लगा। इस हादसे के बाद जगजीत की पत्नी चित्रा सिंह पर इतना गहरा असर हुआ कि उन्होंने गाना ही छोड़ दिया।

आशा भोसले

आशा भोसले ने दो शादियां की हैं। पहली शादी से उनके तीन बच्चे हुए। दो बेटे और एक बेटी। सबसे बड़े बेटे का नाम हेमंत था वहीं बेटी का नाम वर्षा था। वर्षा ने स्पोर्ट्स राइटर हेमंत केंकरे से शादी की थी, लेकिन 1998 में उनका तलाक हो गया। इसके बाद वर्षा मुंबई में अपनी मां के साथ ही रहने लगीं थीं। अक्टूबर 2012 में 56 साल की उम्र में वर्षा ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। वहीं सबसे बड़े बेटे हेमंत की मौत 66 साल की उम्र में कैंसर की वजह से साल 2015 में हो गई थी।

शेखर सुमन

अभिनेता शेखर सुमन भी इस दौर से गुजर चुके हैं। करियर के एक पड़ाव में शेखर अचानक जॉबलेस हो गए थे। उस दौर में उनकी पत्नी अलका का काम भी कुछ खास नहीं रहा था। इस बीच उन्हें पता चला कि उनके बड़े बेटे आयुष को दिल से संबंधित कोई बड़ी बीमारी है। इलाज के लिए उन्हें ढेर सारे पैसों की जरूरत थी। लेकिन वे सब कुछ करके भी इतनी बड़ी रकम जुटा न सके। महज 11 साल की उम्र में उन्होंने अपने बेटे को खो दिया।

महमूद

अपनी कॉमेडी से सबको हंसाने वाले महमूद भी अपने दिल में दर्द दबाए ही इस दुनिया से चले गए। महमूद के बेटे मैक अली संगीत की दुनिया में जगह बनाने का प्रयास कर ही रहे थे तभी उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here