कोई हुआ कैंसर का शिकार तो किसी की हुई ट्रैन से टक्कर, रामायण के इन कलाकारों का ऐसा दर्दनाक रहा अंत!

0
217

दोस्तों लॉकडाउन में दूरदर्शन पर प्रसारित होने वाले धारावाहिक रामायण की लोकप्रियता काफी रही है। ये उस दौर का ऐसा धारावाहिक है जिसे देखने के लिए सड़कें खाली हो जाती थीं। इस धारावाहिक के लगभग सभी किरदार काफी लोकप्रिय हुए थे। इन कलाकारों में राम, लक्ष्मण और सीता का किरदार निभाने वाले अरुण गोविल, सुनील लहरी और दीपिका चिखलिया के अलावा भी ऐसे कई कलाकार हैं जिनके अभिनय ने इस धारावाहिक को ऐतिहासिक बना दिया। लेकिन इनमे से कुछ कलाकार ऐसे भी रहे जिनकी मौ’त बेहद दुखद रही। ऐसे आज आपको उन कलाकारों के बारे में बता रहे है, आईये जानते है इनके बारे में!

श्याम सुंदर कलानी – सुग्रीव


रामायण में सुग्रीव का किरदार निभाने वाले अभिनेता श्याम सुंदर कलानी का पिछले साल ही नि’धन हो गया था। वह काफी वक्त से कैंसर से जूझ रहे थे। उन्होंने शो में जिस तरह से सुग्रीव का किरदार निभाया वह काबिल-ए-तारीफ है। श्याम सुंदर कलानी ने रामायण के साथ-साथ त्रिमूर्ति ,छैला बाबू और हीर रांझा फिल्मों के साथ ‘जय हनुमान’ सीरियल में हनुमान की भूमिका भी निभाई थी।

मुकेश रावल  – भीषण


रामायण में रावण के भाई विभीषण का किरदार मुकेश रावल ने निभाया था। आज भी लोगों के जहन में उनकी सज्जनता से भरी अदाकारी और वक्त वक्त पर श्रीराम को परामर्श देने वाले दृश्य कैद हैं। इसके अलावा मुकेश हिंदी और गुजराती सिनेमा जगत में भी सक्रिय रहें। उनकी मौ’त बहुत ही दुखद रही। साल 2016 में ट्रेन से कटकर उनकी मृ’त्यु हुई। जानकारी के अनुसार वह अपने बेटे की मौ’त के सदमे से जूझ रहे थे।

विजय अरोड़ा – मेघनाद


रामानंद सागर की रामायण में मेघनाद का किरदार विजय अरोड़ा ने निभाया था। साल 2007 में पेट के कैंसर के चलते वह 62 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कह गए। उन्होंने अपने करियर में 110 फिल्मों और करीब 500 से अधिक सीरियल्स में काम किया।

ललिता पवार – मंथरा


रानी कैकेयी की दासी मंथरा का किरदार अभिनेत्री ललिता पवार ने निभाया था। हिंदी सिनेमा जगत में जबरदस्त खलनायिका के तौर पर पहचानी जाने वालीं ललिता पवार को आज भी लोग उनके अभिनय से याद करते हैं।  ललिता के बेहतरिन एक्टिंग की वजह से रामानंद सागर ने उन्हें रामायण में मंथरा रोल ऑफर किया था। मंथरा का जबरदस्त अभिनय कर सबको हैरान कर दिया था। मुंह के कैंसर की वजह से ललिता पवार की मृ’त्यु 24 फरवरी 1998 को हो गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here