रुबीना ने सलमान पर लगाया पति अभिनव को अपमानित करने का आरोप, छोड़ना न चाहती है शो!

0
168

दोस्तों टीवी जगत के विवादित शो बिग बॉस 14 लगातार सुर्खियों में बना हुआ है। शो में कई कंटेस्टेंट्स ऐसे हैं जो अपने खेल और रणनीति की वजह से चर्चा में हैं। वहीं कुछ ऐसे भी कंटेस्टेंट्स हैं जो अपने बयानों और मुद्दों की वजह से सुर्खियों में हैं। हाल ही में टेलीकास्ट हुए वीकेंड एपिसोड में सलमान ने रुबीना के रवैये पर फटकार लगाते हुए उनके पति अभिनव को उनका पर्सनल सामान कहा था।

बता दे की इस कमेंट को रुबीना ने काफी पर्सनल ले लिया और सलमान पर अपमान करने का आरोप लगाया। एक्ट्रेस इस बात से काफी परेशान हुईं जिसके बाद उन्होंने शो छोड़ने का फैसला किया। इस सीजन एक्ट्रेस रुबीना दिलैक और उनके पति अभिनव शुक्ला ने साथ हिस्सा लिया है। वीकेंड एपिसोड के बाद से ही रुबीना काफी परेशान थीं जिसके बाद बिग बॉस ने उन्हें कन्फेशन रूम में बुलाकर समझने और समझाने की कोशिश की।

रुबीना ने बिग बॉस से कहा की सलमान का कमेंट, ‘ये सामान आप लेकर आई हैं’, काफी अपमानजनक था। एक्ट्रेस ने कहा, ‘हम शो में आने के लिए उतावले नहीं थे। जब शो की टीम ने कहा कि हम अभिनव से बात करेंगे तो मैंने उन्हें मनाने की जिम्मेदारी ली और उन्हें कन्वेंस किया। मेरे कहने पर वो यहां आए हैं। हम दोनों की प्रोफेशनल अलग- अलग इमेज है। मैं इस तरह के माहौल में काम नहीं कर सकती’।

बिग बॉस ने रुबीना को समझाते हुए कहा कि सलमान ने ये बात एक टास्क के तहत कही थी जिसमें उनका अपमान नहीं किया गया है। सलमान इस वाक्य से उन्हें ह्यूमर के साथ समझाने की कोशिश कर रहे थे। जब बिग बॉस के लगातार समझाने के बावजूद रुबीना नहीं मानी तो उनसे पूछा गया कि क्या वो ये शो छोड़ना चाहती हैं। इसपर रुबीना ने पहले तो बिग बॉस से फैसला लेने को कहा और बाद में शो छोड़ने के लिए हामी भर दी।

रुबीना की जिद देखते हुए बिग बॉस ने अभिनव को कन्फेशन रूम में बुलाकर उन्हें इस बारे में बताया। अभिनव ने रुबीना से कहा कि सलमान ने अगर उनसे कुछ कहा तो वो खुद इस बारे में बात करेंगे, ऐसे में रुबीना को उनके लिए बात करने की जरूरत नहीं है। हालांकि अभिनव ने खुद भी बिग बॉस ने सलमान के कमेंट की इंटेंशन जाननी चाही। बाद में दोनों ने सलाह कर अगले हफ्ते इस बारे में सलमान से सीधे बात करने की इच्छा रखी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here