सुपरहिट फिल्म शोले में हुई है कई बड़ी गलतिया, जिन पर आपने कभी नहीं दिया होगा ध्यान, जानिए उनके के बारे में!

0
112

दोस्तों बॉलीवुड फिल्म जगत की फिल्म शोले 15 अगस्त 1975 को रिलीज हुई थी और यह हिंदी सिनेमा जगत के इतिहास की सबसे सफल फिल्म है। आज इस फिल्म को रिलीज हुए 46 साल बीत चुके हैं, लेकिन आज भी इस फिल्म की कहानी और इस फिल्म के किरदार लोगों के दिल-दिमाग में बस गए हैं और आज भी अगर शोले फिल्म टीवी पर प्रसारित होती है, लोग समान रूप से रोमांचित हैं।

फिल्म शोले के निर्माण से जुड़े कई किस्से भी खूब चर्चित हुए, लेकिन फिल्म शोले के निर्माण में कुछ खामियां थीं, जिन पर बहुत कम लोगों ने ध्यान दिया और आज इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको शोले फिल्म की कुछ ऐसी ही कहानियां देंगे आपको प्रोड्यूसर्स द्वारा की गई बड़ी गलतियों के बारे में बताने के लिए, आइए एक नजर डालते हैं इन बग्स पर।

पानी की टंकी सीन 

शोले का सीन सबसे बड़ा हिट था जिसमें धर्मेंद्र यानी वीरू बसंती का प्यार पाने के लिए पानी की टंकी पर चढ़ जाते हैं लेकिन पूरी फिल्म यही दिखाती है कि रामगढ़ गांव में बिजली नहीं है और फिल्म में दिखाया गया है,

भगवान शिव की पूजा का सीन 

शोले फिल्म में एक दृश्य दिखाया गया है जिसमें बसंती भगवान शिव की पूजा करने के लिए पैदल मंदिर में आती है और उसे देखकर वीरू पूछता है कि आज तुम्हारा धन्नो कहाँ है? लेकिन इस दृश्य पर गौर करें तो जब बसंती मंदिर से लौटती है, तो मंदिर के बाहर उसके टन इंतजार कर रहे होते हैं, उल्लेखनीय है कि अगर बसंती पैदल ही मंदिर जाती तो वापस लौटने पर उसके पास पैसे कैसे होते।

गब्बर का डायलॉग

गब्बर का डायलॉग अरे ओ सांबा कितने आदमी थी फिल्म शोले में बहुत लोकप्रिय हुआ और इस सीन में गब्बर के तीन डाकू उसके सामने खड़े हैं लेकिन जब गब्बर उसके सामने गोली मारता है, तो यह अगली घटना है। दृश्य में दो लुटेरों को पीठ और गर्दन में गोली मारते हुए दिखाया गया है।

लकड़ी का पुल सीन

फिल्म शोले के एक दृश्य में बसंती को डाकुओं से बचने के लिए एक स्टंट करते हुए एक लकड़ी के पुल को तोड़ते हुए दिखाया गया है, जिससे लुटेरे बसंती का पीछा करने में असमर्थ हो जाते हैं और उन्हें अपना मार्ग बदलना पड़ता है और वीरू और जय बसंती को बचाकर वापस आ जाते हैं। डाकुओं यानि कि बसंती ने जो लकड़ी का पुल तोड़ा वह सही दिखता है।

जेब से सिक्का सीन 

फिल्म में दिखाया गया है कि जय वीरू के हाथों मर जाता है और इस सीन से यह भी पता चलता है कि जब जय पुल के पास आता है तो उस वक्त उसकी दोनों हथेलियां खुली दिखाई देती हैं लेकिन जब वीरू के हाथों जय मर जाता है तो एक सिक्का मिलता है उसके हाथ में। ऐसे में यह सोचने वाली बात है कि क्या जय की जेब से सिक्का उस वक्त निकला जब वह मर रहा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here